Search
ताजा खबर  
 Mail to a Friend Print Page   Share This News Rate      
Save This Listing     Stumble It          
 


 भूलकर भी इन दिनों में न करें ये काम, वरना जाने पड़ेगा नर्क

हिंदू धर्म में श्राद्ध का बहुत अधिक महत्व है। किसी भी व्यक्ति की मृत्यु के बाद उसका श्राद्द करना जरुरी माना जाता है। तभी हमारे पूर्वज को मुक्ति, मोक्ष मिलती है। ऐसी मान्यता है कि अगर किसी मनुष्य का विधिपूर्वक श्राद्ध और तर्पण ना किया जाए तो उसे इस लोक से मुक्ति नहीं मिलती और वह भूत के रूप में इस संसार में ही रह जाता है। इस बार 6 सितंबर से पितृपक्ष के श्राद्ध शुरु हो रहे है। जो कि 19 सितंबर को सर्वपित्री दर्श के साथ समाप्त होगे।

ब्रह्मवैवर्त पुराण में बताया गया है कि दिवंगत पितरों के परिवार में या तो सबसे बड़ा पुत्र या सबसे छोटा पुत्र और अगर पुत्र न हो तो नाती, भतीजा, भांजा या शिष्य ही तिलांजलि और पिंडदान दे सकते हैं। जानिए इन दिनों में कौन से काम नहीं करना चाहिए। जिसे करने से आपके पूर्वजों को तो कष्ट होगा ही साथ में आपको नरक की प्राप्ति होगी। ऐसा शस्त्रों में कहा गया है।

अगर आपको पितरों का श्राद्ध करना है, तो इस बात का ध्य़ान रखें कि इन दिनों में ब्रह्मचर्य का पूरा पालन करें। इन दिनों में मांस-मदिरा का सेवन न करें तो बेहतर है।
पितृ पक्ष के दौरान चना, मसूर, सरसों का साग, सत्तू, जीरा, मूली, काला नमक, लौकी, खीरा एवं बांसी भोजन नहीं खाना चाहिए।
अगर आप अपने पितरों का तर्पण कर रहे है, तो गया, प्रयाग जाकर करें या फिर अपने घर पर करें। घर का मतलब कि वह आपका खुद का घर हो किराए में लिया हुआ न हो।
शास्त्रों में कहा गया है कि इन दिनों में आपके पूर्वज किसी भी रुप में आपके द्वार में आ सकते है। इसलिए किसी को भी घर से निरादर कर भगाएं नहीं।

पितृ पक्ष में पशु पक्षियों को अन्न-जल देने से विशेष लाभ होता है। इन्हें भोजन देने से पितृगण संतुष्ट होते हैं।
जब भी आप तर्पण कर रहे है, तो काले तिल का ही इस्तेमाल करें। हिंदू धर्म में श्राद्ध करते समय काले तिल का बहुत अधिक महत्व है। इसलिए सफेद या लाल तिल का इस्तेमाल न करें।
पितृ पक्ष में पितरों को प्रसन्न करने के लिए ब्राह्मणों को भोजन करवाने का नियम है। भोजन पूर्ण सात्विक एवं धार्मिक विचारों वाले ब्राह्मण को ही करवाना चाहिए।
शास्त्रों के अनुसार माना जाता है की पितृ पक्ष में कुत्ते, बिल्ली, और गायों किसी भी प्रकार की हानि नहीं पहुंचानी चाहिए, क्योंकि इस सबका फल भी हमें मिलता है।

समान समाचार  
tejnews.com
     
महालया आज: जानिए इसका मतलब, शारदीय नवरात्र गुरुवार से शुरु
महालया मांगलिक पर्व दुर्गा पूजा से सात दिन पहले नए चांद के महत्व को दर्शाता है। माना जाता है कि इसके साथ ही त्योहारों की शुरूआत हो जाती है। जो कि आपकी लाइफ में सुख-शांति और समृद्धि लाती है। महालया यानी मां का आवाहन आज 19 सितंबर को है। इसमें मां दुर्गा का अवाहन किया जाता है। आपको बता दें कि शारदीय नवरात्र 21 सितंबर से शुरू होकर 29 सितंबर तक चलेगी। साथ ही दशहरा 30 सितंबर को मनाया जाएगा। अश्व‍िन महीने की अमावस्या को महालया होती है। दशहरे के पहले जो अमावस्या की रात आती है उसे 'महालया अमावस्या' के नाम से जाना जाता है। एक तरह से इसी दिन से दशहरा की शुरुआत हो जाती है। जानिए क्या है मह
read more..

महालया आज: जानिए इसका मतलब, शारदीय नवरात्र गुरुवार से शुरु

इंदिरा एकादशी: इस विधि से से करेंगे पूजा, तो पूर्वजों को मिलेगा मोक्ष

केदारनाथ से लेकर तमिलनाडु तक एक सीधी रेखा में कैसे बने शिव मंदिर

बनाएं ऐसा सिग्नेचर, कभी नहीं होगी धन की कमी

घर में लाएं ड्रैगन का ये जोड़ा, मिलेगी अपार संपदा और सुख-शांति

18 सिंतबर होगा अद्भुत संयोग, चांद करेगा यह कारनामा

इन उपाय से शांत होंगे पितृ, सारे दोषों से होंगे मुक्त

यह गुरुवार है बेहद खास इन उपायों से खुलेंगे किस्मत के ताले

ऐसा होगा घर में स्टोर रूम तो बना रहेगा अन्न धन का भंडार

मधुर महागणपति मंदिर: ऐसा मंदिर जहां दीवार से प्रकट हुए गणपति

श्री गणेश को करना है खुश, तो लगाएं केसरी मोदक से भोग

अंक ज्योतिष में नाम का पहला अक्षर बताता है 'कैसे हैं आप'

बिजनेस में हो रहा है लगातार घाटा, तो अपनाएं ये वास्तु उपाय

महाशिवरात्रि में खोले अपना व्रत टेस्टी केले के सलाद के साथ

सावन के शनिवार को करें ये काम, होगी हर मुराद पूरी

गुरु पूर्णिमा 2017: जानें कब और कैसे मनाया जाएगा यह महोत्सव

करके देखें, मिलेगा निश्चित आर्थिक लाभ

‘मोहिनी’ एकादशी : सभी पापों का क्षय करती है और सर्वोत्तम है

बच्चों को बुरी नजर से बचाना है तो करें ये उपाय...

कपूर के इन उपायों से नहीं होगी पैसे की कमी

पब्लिक पोल  
हाँ
नहीं
ठीक
नहीं
Poll Comments
  
tejnews.com
tejnews.com
tejnews.com
tejnews.com
tejnews.com
 
 
 
 
होम  |  देश  | MP-CG  | धर्म-कर्म  | हेल्थ  | अजबगजब  | व्यक्ति-ब्लॉग  | लाइफस्टाइल  | सैर  | राजनीति  | रीवा रीजन  | UP-RJ  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें  | Live टीवी
TejNews.com Copyrights2011-2012. All rights reserved. Designed & Developed by : MakSoft.in
 
Hit Counter